Friday, August 22, 2008

मर्लिन मुनरो समझाती है डायमेंड्स एक लड़की के बेस्ट फ्रेंड क्यो है?सुनिये....

पिछली पोस्ट के सन्दर्भ मे -
diamonds are a girls best friend एक गीत है जिसे जेंटलमेन प्रिफर ब्लोंडस के लिए कैरोल चैन्निंग ने इंट्रोड्यूस किया था। Gentlemen Prefer Blondes (1949){माने -सम्भ्रांत पुरुष सुनहरे बाल और गोरे व्यक्ति पसन्द करते हैं},अनिता लूस के एक उपन्यास पर आधारित एक म्यूज़िकल थी। Marilyn Monroe के गाये इस गीत को यू ट्यूब पर ढूंढा तो मिल गया देखिये आप भी । गीत के बोल कुछ इस तरह हैं-

फ्रेंच पुरुष प्यार ले लिए युद्ध लड़ते और मरते हैं
पर मै ऐसा पुरुष चाहती हूँ जो जिए और दे मुझे कीमती तोहफे
हाथ पर एक चुम्बन बेशक यूरोपीय रीतियों के मुताबिक होगा
पर एक डायमेंड ही लड़की का सच्चा मित्र है।
एक चुम्बन शानदार,भव्य हो सकता है
पर उससे मकान का भाड़ा नही दिया जा सकता।
जब जेंटलमेन कोल्ड हो जाते हैं और लड़कियाँ ओल्ड हो जाती हैं,और अपना आकर्षण खोने लगती हैं तब सिर्फ डायमेंड्स ही गोल,चकोर जो भी आकार हो उसे बरकरार रखते हुए चमकते रहते हैं।
इसलिए डायमेंड्स आर अ गर्ल्स बेस्ट फ्रेंड।
अफेयर्स प्लैटोनिक नही लैकोनिक होने चाहिये
वक़्त का पहिया घूमेगा
आपके पुरुष की समृद्धि नुकसान मे बदल सकती है
यौवन बुढापे मे बदल सकता है
आप झुक कर उठ नही सकोगे
पर ऐसे मे भी
टिफनी के डायमेंडस वैसे ही रहेंगे जैसे थे।
इसलिए
डायमेंड आर अ गर्ल्स बेस्ट फ्रेंड !!



इस फिल्म की कहानी जो अपने आप मे कटाक्ष है सम्भ्रांत पुरुषों पर ,कुछ इस तरह हैं। लोरेली जो मुख्य किरदार है कहानी की,उसने अम्रेरिका के भौतिकतावाद को आतम्सात कर लिया और अपार धन इकट्ठा कर संस्कृति को कोल्ड कैश और मूर्त वस्तुओं के समतुल्य ला दिया।यह एक एक्स्ट्रीम स्थिति है।
इसके बाद मडोना का गीत "वी अर लिविंग इन अ मटीरिअल वर्ल्ड अंड आयम अ मटीरियल गर्ल्"{1985} इसी अन्दाज़ मे आया और मशहूर हुआ।

टिफनी अमरीका की एक प्रतिष्ठित आभूषण कम्पनी है जिसका ज़िक्र इस गीत मे है।

8 comments:

वर्षा said...

पढ़कर अच्छा लगा। जेंटलमेन प्रिफर ब्लोंडस फिल्म भी देखनी चाहिए।

शायदा said...

सुजाता मेरे ख़याल से तो डायंमड ही भले...कम से अपनी असली सूरत में बने तो रहते हैं हमेशा।

Rachna Singh said...

yahaan diamond ko stridhan sae jodaa gyaa haen kyaa ?? kyuki stridhan stri ko uskii aarthik surakshaa kae liyae diyaa jaata thaa aur diamond bhi ek aarthik surkshaa daetaa heaen . baat sundertaa sae bahut upar kii haen syaad
finacial security kii jo diamond ko bech kar mil saktee haen

नीलिमा सुखीजा अरोड़ा said...

मेरा ख्याल है शायद सही कहती हैं कि कम से कम हीरे तो हैं जिनके शक्ल वक्त के साथ नहीं बदलती

Manvinder said...

shayada ne sahi kaha hai....
kam se kam wakt ke sath badalte nahi hai...

Unknown said...

@जब जेंटलमेन कोल्ड हो जाते हैं और लड़कियाँ ओल्ड हो जाती हैं,और अपना आकर्षण खोने लगती हैं तब सिर्फ डायमेंड्स ही गोल,चकोर जो भी आकार हो उसे बरकरार रखते हुए चमकते रहते हैं। इसलिए डायमेंड्स आर अ गर्ल्स बेस्ट फ्रेंड।

Unknown said...

दक्षिण पश्चिमी यूरोप में एक आम कहावत है, "किसी नेकदिल मगर गरीब की बीवी बनकर सुखी रहने से कई लाख गुना बेहतर है की एक बिगड़े अमीरज़ादे के महल में दुखी ज़िन्दगी गुज़ारना."

भारत में लड़कियों को इसका उल्टा सिखाया जाता रहा है, संस्कृति और नज़रिए का फर्क है.

Suresh Gupta said...

जन्माष्टमी की बहुत बहुत वधाई

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...