Wednesday, September 17, 2008

.: घर घेऊ का घर?

.: घर घेऊ का घर?
Chanach aahe lekh.

2 comments:

Abhivyakti said...

lekh sunder aahe . abhinandan !

Anonymous said...

I think, more or less, in all school staff rooms one will listen such things. The teachers, my God!!!

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...