Thursday, September 18, 2008

बराबर दर्जा



बहस के लिए विचार आमंत्रित हें .......

---नीलिमा गर्ग

12 comments:

Anonymous said...

very cool.

Anonymous said...

i think you add more info about it.

Anonymous said...

im here because of few cents for you. just dropping by.

Anonymous said...
This comment has been removed by the author.
Anonymous said...
This comment has been removed by the author.
Anonymous said...

बिना व्याख्या के इस प्रकार के त्रुटिपूर्ण आलेख केवल भ्रान्ति फैलाते हैं

Unknown said...

@बिना व्याख्या के इस प्रकार के त्रुटिपूर्ण आलेख केवल भ्रान्ति फैलाते हैं.

कुछ बात समझ में नहीं आई, महिलाओं को बराबर का दर्जा मिलना ही चाहिए.

Anonymous said...

heading daekhae is post kee issliyae maene likha ki binaa vyakhyaa kae

Anonymous said...

post heading ssae matlab akhbaar kaa heading

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

बिलकुल मिलना चाहिए जी बराबरी का दर्जा। इससे कौन असहमत हो सकता है। यहाँ किसी बहस की गुन्जाइश नहीं है। अलबत्ता नेहरू जी की पोती का परिचय समझ में नहीं आया।

rakhshanda said...

bilkul milna chaahiye...sadiyaan beet gayin aisa sochte lekin ho nahi saka, phir bhi ab ummed bandh rahi hai...education hi iska sab se bada ilaaj hai...

Asha Joglekar said...

कोई किसी को कुछ देता नही है । लड के लेना पडता है । पहल औरतों को ही करनी होगी ।

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...