Sunday, September 28, 2008

दो सुंदर तसवीरें बेटियों के दिन पर



इन तसवीरों की मिठास के साथ आप नीचे का लेख पढ़ना जारी रखें।

8 comments:

Dr. Amar Jyoti said...

वर्ड्सवर्थ ने कहा था'child is the father of man.' शायद 'mother of man' कहता तो बेहतर होता। बहुत प्यारी तस्वीरें हैं।

MANVINDER BHIMBER said...

pyaari tasveeren hai.....mere blog par bhi aaen

रंजन (Ranjan) said...

बहुत प्यारी तस्विरें

Unknown said...

accha laga kabhi phle bhi dekha tha per accha laga dekhkar

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

" चोखेर बाली " ,
उत्तरोत्तर प्रगति करे और ऐसी ही सँवेदनशीलता सदैव सँजोये रखे
यही मेरी द्रढ ईच्छा है !
..बहुत अच्छा किया जो हमारी बेटीयोँ को यहाँ सम्माननीय स्थान दे दिया है आप ने
..पिछली प्रविष्टी और इस बार के चित्र मेँ बालाओँ को देख मन पसीज गया !
सस्नेह्, सादर,
-लावण्या

Unknown said...

मिठास बरस रही है तस्वीरों से. मम्मी-पापा बिटिया की गोद में, वाह क्या बात है.

rakhshanda said...

vaah...very very pretty pics...

Pooja Prasad said...

har beti ki tamanna ye tasviren...apne parents ko bhar bhar kar pyar karne ki tamanaa..
man ki baat bolti tasviren.

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...