Tuesday, November 4, 2008

"हम गुनहगार औरतें"

मेरी पसन्दीदा पाकिस्तानी कवयित्री किश्वर नाहिद की कविता



ये हम गुनहगार औरतें हैं
जो मानती नहीं रौब चोगाधारियों की
शान का

जो बेचती नहीं अपने जिस्म
जो झुकाती नहीं अपने सिर
जो जोड़ती नहीं अपने हाथ।

ये हम गुनहगार औरतें हैं
जबकि हमारे जिस्मों की फसल बेचने वाले
करते हैं आनंद
हो जाते हैं लब्ध-प्रतिष्ठ
बन जाते हैं राजकुमार इस दुनिया के।

ये हम गुनहगार औरतें हैं
जो निकलती हैं सत्य का झंडा उठाए
राजमार्गों पर झूठों के अवरोधों के खिलाफ
जिन्हें मिलती हैं अत्याचार की कहानियाँ हरेक दहलीज पर
ढेर की ढेर
जो देखती हैं कि सत्य बोलने वाली ज़बानें
दी गयीं हैं काट

ये हम गुनहगार औरतें हैं
अब,चाहे रात भी करे पीछा
ये आंखें बुझेंगी नहीं
क्योंकि जो दीवार ढाह दी गयी है

मत करो ज़िद दोबारा खड़ा करने की उसे ।




ये हम गुनहगार औरतें हैं
जो मानती नहीं रौब चोगाधारियों की
शान का
जो बेचती नहीं अपने जिस्म
जो झुकाती नहीं अपने सिर
जो जोड़ती नहीं अपने हाथ।

अनुवाद : माइकेल मोजेज़
पुस्तक: कहती है औरतें - सम्पादन -अनामिका
साहित्य उपक्रम
इतिहास बोध प्रकाशन ,इलाहाबाद

7 comments:

Ek ziddi dhun said...

sujata, padhkar achha laga. kai baar auraton se judee kavitao ke naam pare aisi kavitayen bhee de dee jaatee hain jo asal mein purushon kee hotee hain...

अजय कुमार झा said...

bahut khoob, visfotak, aur dhamaka kartee kavitaa, magar afsos ke ye purushwaadee maansiktaa ko nahin tod paatee, khair kab tak. waise aaj dilli mein ladkiyon par tezaab fenkne kee ghatnaa ne stabdh kar rakhaa hai.aap likhtee rahein.

जितेन्द़ भगत said...

सुंदर कवि‍ता।

Girish Billore Mukul said...

"बेहतरीन पोस्ट के लिए आदर सहित आभार बधाइयां "

आर. अनुराधा said...

वाह!!!खूब!!!

pallavi trivedi said...

bahut badhiya kavita..

Unknown said...

गुनाहगार वह हैं जो औरतों को गुनाहगार कहते हैं.

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...