Saturday, December 13, 2008

उस स्त्री के बारे में तुम्हे कुछ नहीं कहना ?

करवट बदल कर सो गई
उस स्त्री के बारे में तुम्हे कुछ नहीं कहना!

जिसके बारे में तुमने कहा था
उसकी त्वचा का रंग सूर्य की पहली किरण से
मिलता है

उसके खू़न में
पूर्वजों के बनाये सबसे पुराने कुएँ का जल है

और जिसके भीतर
इस धरती के सबसे बड़े जंगल की
निर्जनता है

जिसकी आँखों में तुम्हें एक पुरानी इमारत का
अकेलापन दिखा था
और....जिसे तुम बाँटना चाहते थे
जो... एक लम्बे गलियारे वाले
सूने घर के दरवाजे पर खड़ी
तुम्हारी राह तकती थी!
--------




यह कविता मैं सन्ध्या गुप्ता के ब्लॉग से उठा लाई हूँ। कविता मे स्त्री विमर्श कैसे होता है सन्ध्या की कविताएँ इसका ताज़ा उदाहरण हैं।झारखंड की रहने वाली सन्ध्या गुप्ता के इस ब्लॉग पर मेरी दृष्टि आज ही गयी और पहली ही झलक मे अनंत सम्भावना भरी कविताओं की अनंत सम्भावनाएँ मुझे दिखाई दीं।उनकी कल की ही पोस्ट की हुई कविता दोराहे पर खड़ी लड़कियाँ मानों स्त्री विमर्श पर आधारित कईं लेखों का निचोड़ चन्द मामूली शब्दों मे बयां कर देती हैं।आप भी देखें---- http://guptasandhya.blogspot.com

10 comments:

मुंहफट said...

यह सिर्फ अच्छी रचना भर नहीं, एक कसैले सन्नाटे की परिभाषा है. काश रचना इतने ही पर थम न गई होती.

Arvind Mishra said...

सुजाता जी कविता मैं समझ सका या नहीं ऐसा संशय मुझे हमेशा इस तरह की ( श्रेष्ठ ) कविताओं को लेकर रहता है पर व्यवहार/चर्चा में तो अक्सर यही होता रहा है कि करवट बदल कर निढाल सो पड़ना पुरूष की ही फितरत रही है -नारी की अत्रिप्तता से बेपरवाह - पहली बार किसी दूसरे काव्यात्मक सोच /सत्य से साझा कर रहा हूँ ! व्याख्या प्लीज ! कवि विवेक एक नहि मोरे .....

सुजाता said...

अरविन्द जी ,
कविता की कुंजी उसी के भीतर छिपी होती है,जिसे आप ही खोज सकते हैं..कविता में अनंत सम्भावनाएँ छिपी होती हैं ...सरलार्थ करते ही उसका तिलिस्म टूट जाता है...

यह किसी जादू का रहस्य खोल देने जैसा होगा:-)

Pratyaksha said...

कविता बहुत दूर जाती है , अनेक संभावनाओं को समेटे ..
बहुत बढ़िया ..

ghughutibasuti said...

छोटी छोटी बातों पर बहुत कुछ कहा जा सकता है परन्तु बड़ी बात स्तब्ध कर देती है । वैसा ही कविता के साथ भी होता है । कहने को शब्द नहीं मिलते ।
घुघूती बासूती

Unknown said...

अद्भुत. कवि को मेरी हार्दिक बधाई।

Unknown said...
This comment has been removed by a blog administrator.
संतोष कुमार सिंह said...

दो राहे पर खङी हैं जिदंगी, वक्त की नजाकत को समझों फैसला हम सबों को मिलकर लेनी हैं ।बहुत बहुत धन्यवाद आपकी रचना बेहद पसंद आयी (संतोष-ई0भी0पटना)

sara said...

maine apne jindge k 24 sal pakistan main bitaye hai aur iske bad uae main. maine dekha aur mehsus kiya ke aurat ke gulame ke wajah hai mard ka uske jism par dava. agar aurat ko freedom pani hai to usko apne sarer par kewal aurat ko he haq dena chahiye. use kya pehnna hai, kya kisko dikhana hai, aur kiske sath apne jism ke jarurat pure karne hai. agar aurat apne jism ke jarurat ke liye mard ka mu na dekhe aur apne man marge kare to koi taqat use gulam nahi bana sakte.

main jab lahor main jawani ke dehlej par per rakh rahi the tabi se mere sarer par log apna dava karne lage. jara se aurat ke khubiya 16 -17 sal par dikhne lage to ghar k abu. bhaijan, aur ammi ke bate suru ho gayi ke sene par chunni rakho. 20 sal ke hui to mujhko burke main lapetne te tyyare ho gayi, yahain tak k mujhe usko pehanne ke liye mara peta jane laga. ye ek bahut bada sawal hai. ?? par mane har nahi mani tay kar liya ke main apne liye laduge. main kabhi bhi un dakian;usi baatoin par yaken nahi kiya jisme log kehte hai ke pehli rat ko 2 - 4 bund khun nikalna chahiye. ye aurat ka apman hai, kya use itna bhe haq nahi k wo apne sarer ko kab kiske sath sare kare. maine tai kiya ke kabhi kisi mard ko apne jism ka malik nahi banne dugi.
mujhe burka main bhale hi lapet di;ya gaya ho par mari soch free the
jab main jid karke lahor uni. ke girls hostal main giye aur wahain apne khwahishow ko pura karne ka kam kiya. wahain maine ek dost farah ko chuna jo mere room main he rehte the. hum ek dusre se behad pyar karne lage aur humne ek dusre ke jusm par apna haq de diya. ab hume kise mard de sakl dekhne ke jarurat nahi the,
kamre main na hamare beech burka hota tha aur na koi wo cheeq jo hume dur rakh sake . ab akhir mard ke jarurat he kya . humne sath sat sath talim khatam ke aur apne ghar bar se rista khatam kar uae aa gaye aur job karne lage. hum 4 sal se yahain sath sath rah rahe hain aur ek dusre ko ek mard se jyada jismain aur ruhani sukun de rahe hai. ab pakistan main jyadatar ladkiyoin ne faminism ke suruwat kar apne jism par apne adhikar karne ke suruwat kar de hai.

abhi kuch dinoin pehle he mere ek dost hina ka lahor se phone aaya - usne mujhe ek ase khabar de jise sunakar pak k mardoin ke hosh ud gaye hoge jo peda hote he aurat ko baccha peda karne ke mashin samajh tyare chalu kar dete hai.. kahbar ye the ke lahor ke girls hostel ke sewar ke safai main 2 loding bhar ke candal mili- warden ke hosh ud gaye ke jish hostel main din rat lite aate hai aur genreter bhe hai wahi itne candal??? ab pak ke ladkiyoin ka ishara saf hai. ab wo jism ke liye mardoin ke or nahi dekhte balke apne jaruratoin ko aurtoin ke sath he pura kar sakte hai. ab is candal. dildo aur vibrator ke jamane main aurat aurat ke hai.

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...