Thursday, January 1, 2009

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

आज ही जनसत्ता के सम्पादकीय पृष्ठ पर एक लेख देख रही थी।स्त्रियों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन और समाज अब तक कोई ठोस कदम नही उठा पाया है।जब स्त्रियाँ बाहर निकलने तक मे सुरक्षित नहीं तो हमारे सत्ता तंत्र के लिए यह सोचने की बात है कि किस विकास की बात कर रहे हैं?साल 2005 , साल 2006,साल 2007 ,साल 2008 और अब साल 2009 स्त्री के विरुद्ध अपराधों के आंकड़ॆ बढ ही रहे हैं।


चोखेर बाली की शुरुआत को आगामी 4 फरवरी को एक साल पूरा होने जा रहा है, कोशिश करूंगी कि इस एक साल मे ब्लॉगजगत मे हुई चर्चाओं और विवादों को जो चोखेर बाली से जुड़ी हैं एक-दो पोस्ट मे समेट पाऊँ।

आप सभी को नए साल की बहुत शुभकामनाएँ !

समस्त चराचर के लिए यह वर्ष कल्याणकारी सिद्ध हो ,और स्वतंत्रता ,समानता , बन्धुत्व के पक्षधर हमारे सभी साथियों में स्त्री विमर्श को देखने-समझने के लिए एक खुली दृष्टि , नई दृष्टि विकसित हो ।

14 comments:

Anshu Mali Rastogi said...

सुजाताजी,
आपको व चोखेर बाली के समस्त सदस्यों को नववर्ष-२००९ की ढेरों शुभकामनाएं। आप यूंही अपने मिशन को जारी रखें। बेशक, कुछ सहमतियों के बीच असहमतियां हो सकती हैं लेकिन फिर भी हमारे बीच संवाद का सिलसिला टूटना नहीं चाहिए।
बधाईयां।

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

आप सभी" चोखेरबाली " से जुडे प्रत्येक को २००९ के वर्ष मेँ खुशियाँ मिलेँ,चिँताएँ ना रहेँ
और अमनो चैन का विस्तार हो -
यही कामना है स्त्री को हरेक उन्नति व प्रगति के अवसर विपुलता से मिलेँ
और वह सदा सुरक्षित और स्वतँत्र रहे
-लावण्या

डा. अमर कुमार said...



आपका यह मिशन रंग ला रहा है,
नूतन वर्ष के पदार्पण पर चोखेरबाली का अभिनंदन !

कुश said...

Even I m not Safe....


Happy New Year.. to Team Chokher Baali..

Mohinder56 said...

सुजाता जी,

आपको सपरिवार नव वर्ष की शुभकामनायें.

आपने स्त्री की सुरक्षा के बारे में लिखा है.. मेरी जानकारी के हिसाब से हर पांच में से तीन महिलायें घरेलू हिंसा, उत्पीडन या बलात्कार का शिकार करीबी जानकारो/रिश्तेदारों द्वारा होती है.. बाहर की बात छोडिये क्या महिलायें घर पर सुरक्षित हैं ?

वैसे पुरुषों के बारे में भी सोचिये :)
घर पर पत्नी और मां के बीच में पिसता है
ओफ़िस में अफ़सर की सुनता है
स्कूल में बच्चों की शिकायतें सुनता है...
उसकी सुरक्षा के बारे में कोई नहीं लिखता

Sanjay Grover said...

शाश्वत जी, आपका ब्लाॅग देखा, सुंदर है। आपको, सुजाताजी को व सभी बहसियों को नया साल यथा-सम्भव मुबारक।

Unknown said...

चोखेरवाली के सभी सदस्यों और मेहमानों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं.

अजित वडनेरकर said...

चोखेरबाली की पूरी टीम को नए साल की शुभकामनाएं

दिनेशराय द्विवेदी said...

चोखेर बाली की सभी सदस्यों को हार्दिक शुभ कामनाएँ।
स्त्रियों का सुरक्षित न होना उन्हें प्रगति से रोकने का एक प्रमुख कारण है। इस के प्रति जागरूकता जरूरी है।

बवाल said...

"ये संसार नश्वर ज़रूर है, पर नष्ट होता नहीं। यही बीता वर्ष भी है और नव वर्ष भी यही.
न बदला है, न बदलेगा.
इसलिए वर्तमान को ही गत और नवागत मानते हुए प्रसन्नचित्त जीवन जिए जाइए ....
नव-वर्ष पर्व पर ढेर सारी बधाइयों सहित"
---समीर "लाल" और "बवाल"
http://udantashtari.blogspot.com/
http://lal-n-bavaal.blogspot.com/

Atmaram Sharma said...

बात निकली है तो दूर तलक जायेगी - की तर्ज पर चोखेरवाली ने ब्लॉग जगत में अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज करवाई है. आप सभी को बधाई और नये वर्ष की मंगलकामनाएँ.

सादर
आत्माराम

Akanksha Yadav said...

नया साल...नया जोश...नई सोच...नई उमंग...नए सपने...आइये इसी सदभावना से नए साल का स्वागत करें !!! नव वर्ष-२००९ की ढेरों मुबारकवाद !!!

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

चोखेरबाली ब्लॉग जिन उद्देश्यों को लेकर आगे बढ़ रहा है उसमें इसी प्रकार निरन्तर सफलता मिलती रहे यही हमारी शुभकामना है।

स्त्री विमर्श को नई प्रगतिशील राह दिखाने का यह अनुष्ठान क‍इयों की आँखें खोलने वाला है। प्रयास जारी रखें। हम यहाँ आते रहेंगे।

sandhyagupta said...

Pure chokher bali parivar ko meri taraf se nav varsh ki shubkamnayen.

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...