Saturday, February 7, 2009

चोखेरबाली @2009 : गोष्ठी के दौरान ली गयी कुछ तस्वीरें






एक स्‍लाइडशो 



10 comments:

Anonymous said...

अरे वाह आपलोग देखने में बिल्कुल आम महिलाओं जैसी ही हैं|!!

Anonymous said...

चित्र तो बहुत सारे होने चाहिए थे।
बाकी चित्रों को भी तो कैमरे से
आजाद करो, उन्‍हें भी तो खुली
हवा में सांस लेने दो, जैसे लेना
चाहते हैं सब खुली हवा में सांस।

Arvind Mishra said...

खाली तस्वीरें ? रिपोर्ट कहाँ ?

अजित वडनेरकर said...

...तस्वीरें और भी होंगी...बल्कि हैं...
कहां हैं...कहां हैं...

उन्मुक्त said...

चित्रों के साथ नाम भी होते तो अच्छा था।

Sanjay Grover said...

सभी चित्र बहुत ही सुंदर हैं। सुजाता इनमें आप कौन-सी हैं ?

pallavi trivedi said...

सुजाता...चित्र तो बहुत बढ़िया हैं! पर सबको पहचाने कैसे? नाम भी तो दो!

विवेक said...

एक रिपोर्ट भी लिख दें छोटी सी तो शुक्रगुजार होंगे...जानने की इच्छा तो रहती ही है कि क्या हुआ, क्या कहा गया.

Asha Joglekar said...

Good photographs .

सुशील छौक्कर said...

अच्छी फोटो। और कार्यक्रम भी काफी अच्छा रहा था।

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...