Thursday, February 26, 2009

प्यार और प्यास का फर्क

विवेक आसरी की एक और कविता, चोखेरबाली के लिए।


पति के बगल में सोई
अतृप्त मैं,
ख्वाबों से घबराती हूं।
हर ख्वाब की दहलीज पर
खड़ा रहता है
एक साया
अनजान
मुझे अपनी बाहों में समेटने को तैयार।

डर मुझे उस साये से नहीं
उन बाहों के आकर्षण से लगता है।
उस सफर से लगता है
जो दहलीज पार करते ही
शुरू हो जाता है
उस साये के पहलू में।
घबराहट मुझे
उस छद्म तृप्ति से होती है
जो बढ़ा देती है
अतृप्ति के अहसास को।

प्यार और प्यास का फर्क
सवाल बन जब खड़ा हो जाता है
हर करवट के साथ
पति और मेरे बीच का
अंतर बड़ा हो जाता है।

वो साया
मुझे मेरे मन का
गवाह क्यों लगता है?
और फिर सुबह जगकर
पति की आंखों में झांकना
गुनाह क्यों लगता है?
--

7 comments:

Arvind Mishra said...

छोटी सी कविता का बड़ा नारी विमर्श ! लाजवाब !

अनिल कान्त said...

बहुत ही संजीदगी से पेश किया है ..


मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

मनोज द्विवेदी said...

Kavita man ko chhu gayi..

राजकिशोर said...

यह विसंगति जिंदगी की राह में सौ बार रोई
बांह में है और कोई चाह में है और कोई
(विवाह संस्था जिंदाबाद)

dr amit jain said...

मन मे दबी हुई अतृप्त वासनाओ के खुमार को आप ने अपनी कविता मे नया आयाम दिया है ,
क्या यही है नारी की आजादी ? ,
क्या यही करने के लिए वो आजाद होना कहती है , ?????????????????/

आर. अनुराधा said...

@ अमित जैन-
कृपया कवि का नाम फिर से देख लें, तब प्रतिक्रिया दें।
-धन्यवाद

निर्झर'नीर said...

kavita bahot gahri hai par apni to samajh se pare rahii..asal bhaav to likhne vala hi mehsoos kar sakta hai.

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...