Tuesday, March 24, 2009

हिंदुस्तानी महिलाओं की हालत पाकिस्तान से भी बुरी...

चमकते भारत में महिलाओं की हालत दिनों-दिन खराब होती जा रही है। इसका प्रमाण है विश्व बैंक की एक रिपोर्ट जिसके अनुसार भारत में महिलाओं की स्थिति पड़ोसी देशों पाकिस्तान, नेपाल और श्रीलंका से भी बुरी है। भारत में हर एक लाख प्रसवों के दौरान 301 महिलाओं की मौत हो जाती है। पाकिस्तान मे ये आँकड़ा 276 है जबकि नेपाल में 281 और श्रीलंका में 258 है।

पूरी स्टोरी पढ़ने के लिए देशकाल.कॉम के इस लिंक पर जाएं।

12 comments:

Unknown said...

अनुराधा जी आकंड़े तो जो है वो हैं ही वास्तविक स्थिति तो और भी भयावह है । सुधार के आसार न के ही बराबर है ,

ghughutibasuti said...

कल अपने लेख के लिए आँकड़े जुटाने के लिए गूगल को खंगाल रही थी जो आँकड़े मिले वे इतने भयावह थे कि उन्हें पोस्ट में डालने का साहस नहीं हुआ।
बस इतना ही कह सकती हूँ कि अपने देश में स्त्री, चाहे वह बच्ची हो या किसी भी उम्र की, की स्थिति अच्छी नहीं है।
घुघूती बासूती

Anonymous said...

नैनो की चकाचौंध में हम इतना डूब गए हैं कि बुनियादी चीजों को देखने के लिए आंखे ही नहीं बची हैं।

सुजाता said...

महिलाओं की केवल उपस्थिति बदली है , स्थिति नही।

BrijmohanShrivastava said...

अव्वल तो शीर्षक ही गलत है /शीर्षक में ""चिकित्सीय क्षेत्र में "शब्द होना चाहिए /विदेशों की रिपोर्ट पर मत जाइए /कारण देखिये -जानकारी का आभाव -रुडिवाद, चिकित्सीय सलाह न लेना /इतना प्रचार प्रसार हो रहा है लेकिन हम अन्ध्कुये में पड़े हुए -अस्पताल जाने से कतराते हैं /मै इसलिए और नहीं लिखता कि अभी हाल ही कोई अस्पतालों की कुव्यवस्था पर लेक्चर देने लगेगा /पढाई ,लिखाई ,आजादी ,बोलने की स्वतंत्रता में हमारे देश में महिलाओं की ज्यादा अच्छी स्थिति है / और पोशाक धारण करने में भी /

दिनेशराय द्विवेदी said...

भाई बृजमोहन जी की बात सही हो सकती है। लेकिन हम हमारी महिलाओं की स्थिति का मूल्यांकन इन पिछड़े देशों से क्यों करें? अमरीका,ब्रिटेन, क्यूबा और चीन से क्यों नहीं?

Anonymous said...

अनुराधा और सुजाता ज़रा ब्लोग्पर भी महिला की स्थिति पर नज़र रख लिया करे आभार होगा . जो बृजमोहन जी यहाँ आप को समझा रहे हैं वही दुसरे ब्लॉग पर
लईका को पहली वूमन astronaut मान रहे हैं

Sanjay Grover said...

आप देशद्रोही हैं, गद्दार हैं, हिंदू-विरोधी हैं, संस्कृति-विरोधी हैं। वगैरहा-वगैरहा। भारत में न कभी कुछ ग़लत हुआ है न होगा। हमारा सब कुछ महान है। चलिए, माफी मांगिए, नही ंतो बुलाता हूं किसी धर्मसेना को। बुलाऊं क्या !?

आर. अनुराधा said...

हाहाहाहा!!!!

Sanjay Grover said...

एक तो आप स्त्री हैं, ऊपर से हंस रही हैं, तिस पर चार बार हा हा हा हा करके ! स्त्री को दो हा हा एलाउ हैं। दो घटाईए।

Anonymous said...

Nice blog. Keep up the good work. Hey, by the way, do you mind taking a look at our new website www.indianewsupdates.com. It has various interesting sections. Who knows, it might just have the right kind of stuff that you are looking for.

Also, if you like this website, can you please recommend it to your friends. Your little help would help us in a big way.

Thank you,

The Future Mantra

Science Bloggers Association said...

क्‍या इस रिपोर्ट की पूरी तरह से विश्‍वास किया जा सकता है।

-----------
तस्‍लीम
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...