Sunday, May 10, 2009

मदर्स डे पर शुभकामनायें !!

मातृत्व नहीं है सिंहासन,
मातृत्व नहीं है राजतन्त्र !
वह है जीवन की उर्जा के,
अक्षय बीजों का बीजमंत्र !!
_______________________________________
मदर्स डे पर आप सभी को शुभकामनायें। यदि आप माँ के साथ हैं तो उनका दिल ना दुखाएं और यदि माँ से भौतिक रूप से दूर हैं तो आज का दिन माँ को समर्पित कर दें। एक बार फिर से बच्चे बन कर देखिये.....माँ के नाजुक हाथों का स्पर्श स्वमेव अपने ऊपर आशीर्वाद के रूप में पाएंगे !!!

कृष्ण कुमार यादव
www.kkyadav.blogspot.com

11 comments:

Udan Tashtari said...

मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं.

Anonymous said...

मातृ दिवस की शुभकामनाऐं

समयचक्र said...

इंसान माँ से जुड़े संस्मरण कभी विस्मृत नहीं कर सकता है . मदर्स डे पर ममतामयी माँ को प्रणाम करता हूँ .

Unknown said...

Maan hai to jahan hai.

Unknown said...
This comment has been removed by the author.
Akanksha Yadav said...
This comment has been removed by the author.
Akanksha Yadav said...

मातृशक्ति को नमन.

शरद कुमार said...

माँ पर सुन्दर पंक्तियाँ. माँ के प्यार,अहसास और त्याग को जिंदा रखें मदर्स डे की सभी को शुभकामनायें.

शोभना चौरे said...

maaka shi aaklan sundar pnktiyo dvara .
matra divas par duniya ki sbhi matao ko naman.

Vinay said...

बहुत अच्छी रचना, सत्य का बोध है इसमें

राजकुमार ग्वालानी said...

मां तूने दिया हमको जन्म
तेरा हम पर अहसान है
आज तेरे ही करम से
हमारा दुनिया में नाम है
हर बेटा तुझे आज
करता सलाम है

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...