Friday, July 17, 2009

चोखेर बाली की चर्चा "दस्तक" में

ब्लागिंग का जमाना है. यहाँ तक की प्रिंट-मीडिया भी अब ब्लागर्स को महत्व देने लगा है. कई अख़बारों ने तो पाठकों के पत्र की जगह ब्लाग-कोना की ही शुरुआत कर दी है. नि:संदेह इस पहल का स्वागत किया जाना चाहिए. व्यंग्यकार सूर्य कुमार पाण्डेय की लिखी पंक्तियाँ उधृत कर रही हूँ-"अब तो हालत यह है कि अखबारों तक ने अपने पाठकों के पन्नों वाली स्पेस को इन ब्लागर्स के नाम आवंटित कर दिया है। दिनोदिन ब्लागियों की फिगर में इजाफा हो रहा है। बिना डाक टिकट, लेटरबाक्स के ही चिट्ठे लिखे जा रहे हैं। जवाब आ रहे हैं। जिनके पास एक अदद कंप्यूटर और नेट की सुविधा उपलब्ध है, वे इस चिट्ठाकारिता में अपना योगदान करने को स्वतंत्र हैं। कर भी रहे हैं। अब अंकल एसएमएस के बिग ब्रदर बाबू ब्लागानंद प्रकट हो चुके हैं। उनकी कृपा से बबुआ लव लेटरलाल, चाचा चिट्ठाचंद और पापा पोथाप्रसाद समेत फैमिली के टोटल मेंबर्स की लाइफ सुरक्षित है। सो चिट्ठी बिटिया की भी।" तो आप भी इंतजार कीजिये की कब कौन अख़बार-पत्रिका आपकी पोस्ट को रचनाओं के रूप में प्रकाशित करती है. फ़िलहाल लखनऊ से प्रकाशित पाक्षिक पत्रिका "दस्तक टाईम्स" (संपादक-राम कुमार सिंह, 215-रूपायन, नेहरू एन्क्लेव, गोमती नगर, लखनऊ)ने 15 जुलाई, 2009 के अंक में ब्लॉग-भारत स्तम्भ के तहत "चोखेर बाली" पर प्रकाशित मेरे लेख "ईव-टीजिंग और ड्रेस कोड" को स्थान दिया है..आभार !!
आकांक्षा यादव

10 comments:

admin said...

BADHAYI.
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

हिंदी साहित्य संसार : Hindi Literature World said...

Apne khub likha bhi to tha, fir charcha kyon nahin hoti.

Amit Kumar Yadav said...

चोखेर बाली यूँ ही शिखर की और बढ़ता रहे...कोटिश: शुभकामनायें.

Amit Kumar Yadav said...

चोखेर बाली यूँ ही शिखर की और बढ़ता रहे...कोटिश: शुभकामनायें.

Dr. Brajesh Swaroop said...

Behatrin rachnaon ko samaj sadaiv hathon-hath leta hai...is uplabdhi par badhai.

Unknown said...

उम्मीद है की जल्द ही साहित्य और ब्लोगित्व को साथ-साथ स्थान मिल पायेगा...
शुभकामनाये......!!
www.nayikalam.blogspot.com

स्वप्न मञ्जूषा said...

Chokher baali ko bilkul sahi sthan mila..
bahut bahut badhai..

shobhana said...

bhut bhut badhai.

रचना त्रिपाठी said...

चोखेर बाली को मेरी तरफ से बधाइयां और ढेर सारी शुभ कामनायें।

Akshitaa (Pakhi) said...

Meri taraf se bhi badhai.

Wishing "Happy Icecream Day"...
See my new Post on "Icecrem Day" at "Pakhi ki duniya"

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...