Tuesday, July 28, 2009

लड़की जो बड़ी हो गई है

अर्चना सिन्हा


लड़की जो बड़ी हो गई है

घबरा कर खींच दिया उसने

खिड़की का परदा,

गली से गुजरते एक लड़के ने

बजाई थी सीटी

उसे देख कर।

बचा कर माँ की नजर

उसने चुपके से देखा आईना

और संवार लिए अपने बाल।

* * *

लड़की जो बड़ी हो गई है,

डाल दी है उसने

दूध की सारी मलाई

अपने भाई के ग्लास में

और रख दी है

अपने हिस्से की सारी गुझिया

उसके लिए।

कुछ दिन और

माँ निश्चिंत रहेगी

भाई के नाश्ते की फ़िक्र से।

* * *

लड़की जो बड़ी हो गई है,

सिलवा लिया है उसने

माँ की साड़ी का लहंगा

इस बार के त्यौहार में,

ले आई है

अपने कपड़ों के पैसों से

पिता के जूते और

भाई की एक जींस

और पोंछ कर हथेलियों से

माँ की आंखों में

उतर आए आंसुओं को

मुस्कुरा रही है

उसके गले में बाहें डाल कर।

* * *

लड़की जो बड़ी हो गई है

देखने लगी है सपने

बादलों के पार बने एक महल का

महल के दरवाजे पर खड़े

एक सजीले राजकुमार का,

और अनजाने में ही

अपने होठों पर उतर आई

मुस्कराहट से चौंक कर

देखने लगती है चारों ओर,

और देख कर

माँ के चहरे पर

चिंता की लकीरों को

सहम जाती है अन्दर से।

* * *

लड़की जो बड़ी हो गई है

पढ़ ली है उसने

पिता के चहरे पर छाई

विवशता की लकीरें,

देखी है

माँ की आंखों की कातरता,

निकाल कर अपनी किताब से

एक सूखे गुलाब को,

फेंक नहीं पायी है,

रख दिया है उसे

किताबों की आलमारी में

पीछे कहीं छुपा कर।

पहन कर साड़ी

उठा ली है हाथों में

चाय की ट्रे

और मन-मन भर के पाँव रखती

जा रही है

बाहर वाले कमरे की तरफ़।

लड़की जो बड़ी हो गई है!

23 comments:

ओम आर्य said...

bahut hi sahaj our gahara hai bhaaw aapaki rachacnao ka .........bikul satya hai kaha aapane ......ek madhay wargiya ladaki ka iatan hi sach hota hai.......umda

ओम आर्य said...

bahut hi sahaj our gahara hai bhaaw aapaki rachacnao ka .........bikul satya hai kaha aapane ......ek madhay wargiya ladaki ka iatan hi sach hota hai.......umda

श्यामल सुमन said...

रचना के भाव का निशाना ठीक जगह लगता दिखाई दे रहा है। अच्छी प्रस्तुति अर्चना जी।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

डॉ .अनुराग said...

एक कविता जो कभी बचपन में पढ़ी थी याद आ गयी....
"ओर फिर
बिन बताये ,बिन पूछे ही ब्याह जाती थी
मेरे मोहल्ले की लड़की....."

Mithilesh dubey said...

बहुत हि सुन्दर रचना , अच्छे भाव व्यक्त किये है आपने।।

Sanjay Grover said...

inke bog par inki anya kavitayeN bhi achchhi haiN.

अनिल कान्त said...

मैं तो कहूँगा की उसकी जिंदगी दिखा दी 'लड़की जो बड़ी हो गई'

Dr. Amar Jyoti said...

मार्मिक!

विजय प्रताप said...

sundar, lekin marmik sach!

सौरभ के.स्वतंत्र said...

mansparshi!
likhte rahiye...padhte rahiye.

शोभना चौरे said...

schhai se rachi ak sachhi ladki ki sachhi kavita .
abhar

विनीत कुमार said...

लड़की जो बड़ी हो गयी है
पहले हर बात पर लगाती थी ठहाके
अब बस धीरे से ओंठ हिला देती है
समाज की स्त्रियां समझाती है,
अपने पैसे बचाकर भाई के लिए
जींस लाने पर समझाती है
क्यों तेरे बदन को नहीं चाहिए कपड़े
लड़की जो बड़ी हो गयी है
अपने हिस्से की आइसक्रीम खिला आती है
दरवाजे पर बैठी बूढ़ी रधकी काकी को
समझाती है उसकी मां क्या तुझे मुंह नहीं खाने के
लड़की हौले से मुस्कराती है
बस इतना ही कहती है,
जाने दो न मां
मैं लड़की हूं न।...

~PakKaramu~ said...

Pak Karamu reading your blog

आर. अनुराधा said...

ओह!!! कह नहीं सकती इस कविता के हर वाक्य, हर तथ्य-कथ्य ने कहां-कहां छुआ, कहां कितने घाव उघाड़ दिए और फिर उन पर फाहे भी रख दिए! आखिर किसी ने वह सब कहा तो!

उस उम्र की हर लड़की की शायद यही कहानी होती रही है। बात को कह देना उसे आगे बढ़ाने की पहली कोशिश है। उम्मीद है हमारे आगे की पीढ़ियां इसमें अपने आयाम जोड़ रही हैं।

अविनाश वाचस्पति said...

लड़की बड़ी हो जाती है

उम्र से पहले

सच से जल्‍दी

सोचती है बड़ा बड़ा

अन्तर सोहिल said...

"डाल दी है उसने
दूध की सारी मलाई
अपने भाई के ग्लास में"

20 वर्ष पहले की दीदी की याद आ गई

प्रणाम स्वीकार करें

Asha Joglekar said...

लडकी जो बडी हो गई है क्या क्या त्याग रही है अपनों के लिये, अपने सपने तक बेच रही है वह एक अच्छी जिम्मेदार बेटी कहलाने के लिये ।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

बहुत अच्छी कविता, और सच में बेटियाँ बड़ी समझदार होती है, बेटे तो निहायत नालायक होते है !

Atmaram Sharma said...

बहुत मार्मिक रचना. साधुवाद.

राजीव थेपड़ा ( भूतनाथ ) said...

sach to yah hai ki ladki kishor hone ke pahle javaan...aur javaan hone ke pahle hi budhi ho jaa rahi hai....aur jeene se pahle mar jaa rahi hai...!!

mridula pradhan said...

ladki jo bari ho gayee,behad sunder kavita hai.all the best .

vijay kumar sappatti said...

amazing poem ... main to nishabd hoon ji , kya kahun .. itne gahre bhaav , itne sahaz shbdo me ....

mera salaam kabul karen..

aabhar

vijay

pls read my new poem "झील" on my poem blog " http://poemsofvijay.blogspot.com

अर्चना तिवारी said...

बहुत अधिक भावुक कविता ...गहरे भावों से सजी ....

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...