Saturday, February 20, 2010

तू निर्बंध सारी धरती पर घूम सके

मनीषा की डायरी से यह एक पन्ना आज चुरा लाई हूँ ...एक भावुक ,रूमानी अन्दाज़ मे लिखी गई यह पोस्ट जाने क्यों आकर्षित कर गई।.जब "पा"देखी थी तो मन मे यही कामना की थी कि दुनिया की सब माएँ ऐसी ही हो जाएँ।और सब पिता .....

उसने अपनी बेटी के लिए एक कविता लिखी थी। उसने कामना की थी कि उसकी बेटी हरसिंगार सी खिले और हर ओर छा जाए। बेले सी उसकी खुशबू संसार की वादियों में बिखर जाए। वह पहाड़ी बर्फ सी निर्मल हो। उसकी चमक के आगे शर्मसार हों सितारे। वह अलकनंदा सी बहे और राह की हर चट्टान को निर्मल कर दे। वह हवाओं सी उन्‍मुक्‍त हो और हिमालय सी उदात्‍त।

पिता ने चाहा कि वह संसार के हर बंधन से ऊपर उठ सके। वह अपनी अंतरात्‍मा में अवस्थित हो। हवाएं उसका रूप गढ़ें और प्रकृति उसका मन। उस कविता में बेटी के लिए प्रेम, गरिमा, उदात्‍तता और स्‍वतंत्रता की सम्‍मोहक पुकार थी।

तू निर्बंध सारी धरती पर घूम सके

अपने दीवाने को तू चूम सके।

इसी सदी के पूर्वार्द्व में पहाड़ों की गोद में बैठा एक पिता कह रहा था अपनी बेटी से कि अपने दीवाने को तू चूम सके।

बेटी तब महज दो साल की थी।

मां ने सुनी कविता। आखिरी पंक्ति पर अटक गई। ये क्‍या दीवानों सी बातें करते हो तुम। मैं कभी अपनी बेटी को यह कविता पढ़ने नहीं दूंगी, मां ने बनावटी गुस्‍से में कहा।

उस रात जब सोई थी मां और दो साल की बच्‍ची उसके सीने से लिपटी, मां सोच रही थी। उस रात मां को पहली बार थोड़ा रश्‍क हुआ अपनी बेटी से। कैसा पिता मिला है इसे? मां ने अपने पिता से तुलना की अपनी बेटी के पिता की। भीतर कुछ टूटा। फिर मां ने धीरे से झुककर बेटी को चूम लिया और बोली,

तू निर्बंध सारी धरती पर घूम सके

अपने दीवाने को तू चूम सके।

(मेरे एक दोस्‍त ने अपनी बेटी के लिए एक लंबी कविता लिखी थी और उसी कविता की एक पंक्ति थी यह अपने दीवाने को तू चूम सके।)

मनीषा पांडे

6 comments:

Akhilesh pal blog said...

bahoot khoob sujata jee achhi kavita hai

मनोज कुमार said...

भावुक कर देने वाली रचना।

mukti said...

सच!!! काश सारे पिता ऐसे ही हो जाते.

bhootnath said...

kash aisa ho pata kintu aisa ho kahaan pata hai.....betiyan apne apne sapne ab bhi apni aankhon men liye apne sasuraal chali jati hai.. unhe sasuraal bejh kar maa-baap shaayad jyada khush ho jaate hain... aur apni jimmevaari se bari bhi....!!

वाणी गीत said...

हर पुत्री को ऐसा पिता मिले ...कौन माँ रश्क नहीं करेगी

Unknown said...

ho sake to puri kawita bhejne ki kripa kare.aapke dost ke kavita ki ye pankti bahoot hi krantikari hai.

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...