Saturday, April 10, 2010

सानिया और शोएब की शादी में कमजोर कड़ी कौन?

सानिया मिर्जा के शोएब से शादी के मामले में ताजा खुलासा यह है कि शोएब ने मान लिया है कि उसकी शादी पहले आएशा से हुई थी, जो हैदराबाद की निवासी है। दूसरे दिन ऐसी भी चर्चा थी कि आएशा को चुप कराने के लिए शोएब ने 15 करोड़ का की डील की। खैर!

आएशा को, खुद को शोएब की बेगम साबित करने के लिए सुहागरात का जोड़ा सबूत के तौर पर पेश करना पड़ा जिसमें शोएब का वीर्य लगा था। यह शर्मनाक है कि एक जिम्मेदार पाकिस्तानी नागरिक, सम्मानित खिलाड़ी और जल्द ही सानिया जैसी हिंदुस्तान की सफल, चोटी की टेनिस खिलाड़ी का दूल्हा बनने जा रहे शोएब में इतनी हिम्मत या साफगोई नहीं कि वह कह सके कि हां, उसकी शादी हो चुकी है। उसे ऐसा करने में कोई दिक्कत भी नहीं थी, क्योंकि तलाक लेना उसके लिए चुटकी बजाने जैसा ही था- और आखिरकार यही उसने किया भी- फिर भी उसने सानिया से शादी के लिए सच्चाई छुपा कर खुद को गैर-शादीशुदा बताया।

शुरू-शुरू में ज्यादातर मीडिया ने यही कहा कि किसी सेलीब्रिटी की शादी की खबर आते ही उसके कई चाहने वाले खुद को उसका वैवाहिक जोड़ीदार बताने लगते हैं। यहां तक कि कुछ लोग पागलपन की हद तक ऐसा करते हैं। आएशा सिद्दीकी के दावे को भी ऐसा ही झूठा और भावनाओं में बह कर किया गया दावा बताया गया। पर अब यह साबित हो गया है कि शोएब ने सारी दुनिया को धोखा दिया। वह फरेबी, अविश्वसनीय, स्वार्थी, झूठा साबित हुआ।

शोएब के कन्फेशन के बाद मीडिया के लिए किस्सा खत्म हो चला है। पर मेरे सवालों की शुरुआत यहां से होती है। इस पूरे किस्से में सानिया सबसे कमजोर चरित्र बनकर उभरी है। क्या उसे शोएब के पहले विवाह का पता था, क्या शोएब ने उसे सब बता दिया था और उसके बावजूद वह लगातार उसके साथ खड़ी रही? और अगर पहले नहीं पता था तो फिर आएशा के दावे के बाद उसके कान खड़े नहीं हुए? क्या उसे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उसका पति पहले से शादीशुदा है- क्या इसलिए कि वह मुसलमान है और हिंदुस्तान में मुसलमान मर्द को एक से ज्यादा शादियां करने की छूट है और उसने भी अपने को इस परिस्थिति में देखने के लिए तैयार कर लिया है? फिर शोएब के कन्फेशन, झूठा साबित होने से भी उसे फर्क नहीं पड़ता क्योंकि वह शोएब से प्यार करती है?

अगर सानिया शोएब को ऐसे ही टूट कर चाहती थी तो पिछले साल जुलाई में अपने बचपन के मित्र, पांच साल से दोस्त उद्योगपति सोहराब मिर्जा से धूमधाम से सगाई क्यों की और फिर उसे जनवरी आते-आते तोड़ भी दिया? हां, खबरें बताती हैं कि सानिया और शोएब का इश्क पिछले छह महीने से चल रहा है। इसके पहले महेश भूपति, फिल्म स्टार शाहिद के साथ भी सानिया का नाम जोड़ा गया।

लगता है सानिया को सिर्फ लाइम-लाइट में रहने का शौक या चस्का है, जिसके वशीभूत वह यह सब सनसनीखेज करती चली जा रही है। अल्लाह उसे सही-गलत का फैसला करने की बुद्धि दे। आमीन!

14 comments:

Rangnath Singh said...

सही है। सवाल तो यहीं से शुरू होते हैं। लेकिन कम ही उम्मीद है कि इनके जवाब मिलेंगे।

Rangnath Singh said...
This comment has been removed by the author.
Unknown said...

इतनी सन्तुलित पोस्ट पर टीपो का अभाव. खैर सानिया के लिये सिर्फ़ सहानुभूति है. खुश रहे भारत की बेटी.

प्रज्ञा पांडेय said...

आपने बहुत सही तर्क दिए हैं .. आधार ही निराधार है जब तो देखिये कितने देर ठहरता है यह रिश्ता .. हमारी ओर से तो ढेरों मंगल कामनाएं हैं नव दम्पति को .

Girish Billore Mukul said...

mujhe uthaye sawaalo ke kaaran aalekh pasand aayaa

Girish Billore Mukul said...

sab kah le fir uttar doongaa

kirti said...

there are many more questions....
what if Sania too , just like Ayesha exceeds the weight limit (58 kg) prescribed by Shoiab ? what if , her MIL who said "i dont like her skimpy dresses and mingling with other guys" forces her to wear long skirt and forbids her from playing mixed doubles...
?
I feel, we are going to see another Ekta kapoor serial on the life of Sania and her adjustment with her in laws.

Asha Joglekar said...

सानिया क्यूं ऐसे झूटे से शादी कर रही है ?

mukti said...

पता नहीं सानिया ने क्या सोचा क्या नहीं ? मुझे लगता है कि उसने भी पहले यही सोचा होगा कि आयेशा झूठ बोल रही है और असलियत सामने आ जाने पर उसे और कोई चारा ही नज़र नहीं आ रहा है. वैसे सानिया का व्यक्तित्व कोई अनुकरणीय व्यक्तित्व नहीं है. उसकी समझ एक आम लड़की जैसे ही है, जो अपने पति या होने वाली पति की सारी गलतियों को जानबूझकर भी ढकने का काम करती है. वो सिर्फ़ एक अच्छी खिलाड़ी भर है और उसने इस मामले में अपनी नासमझी सिद्ध कर दी है.

अर्कजेश said...

ऐसा नहीं कि जानता नहीं, पर
दिल है कि मानता नहीं
इसीलिए हकीकत को पहचानता नहीं
और होता किसी भी समझाइश का असर नहीं

aarkay said...

" But love is blind, and lovers cannot see What petty follies they themselves commit..."

Kaash , Reena Rai se hi kuchh poochh liya hota !

vishnu-luvingheart said...

itne sawal hai hi kyu????

सुजाता said...

अगर आपके सवाल को ऐसे पूछा जाए कि 'किसी भी शादी मे सबसे कमज़ोर कड़ी कौन ?' तो भी हमारे समाज के परिप्रेक्ष्य मे गलत नही होगा :)

EJAZ AHMAD IDREESI said...

जब नारी दिमाग के बजाये दिल से काम लेती है तो उसकी अक्ल काम नहीं करता

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...