Wednesday, October 20, 2010

????????

क्या चोखेर बाली ब्लॉग बंद कर दिया गया है. अगर नहीं तो हम इसके प्रति इतनी उपेक्षा क्यों बरत रहे हैं? इसमें मैं भी शामिल हूँ. लेकिन अब नहीं रहूंगी. अगर ये पोस्ट गयी तो फिर लिखती हूँ. क्योंकि पिछले दिन एक पोस्ट प्रकाशित दिखी लेकिन चोखेर बाली पर नहीं थी.

3 comments:

राजन said...

बहुत दिन से मैं भी यही सोच रहा था कि कहीं यह ब्लोग बन्द तो नहीं कर दिया गया हैं।परन्तु अच्छा हुआ आपने पहल की ।शायद अब नियमित पोस्ट आती रहे।शुभकामनाऐं।

राजन said...
This comment has been removed by the author.
सुजाता said...

कोई सामूहिक प्रयास बन्द कैसे हो सकता है !! मॉडरेटर की व्यस्तताअओं के चलते ? तो मैदान मे आती हैं हम फिर से :)

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...