Monday, April 11, 2011

अध्यक्षा किनकी धर्मपत्नी हैं यह जानना आपके लिये बहुत ज़रूरी है !

15 comments:

rashmi ravija said...

kya kaha jaaye :):)

Anonymous said...

and we never see the names of wives of any men on such things.
.
.
.
shilpa

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

महिला सशक्तिकरण इसी से आता है??? आपने बहुत सही चित्र दिखाया..हमने अक्सर देखा है कि बहुत सी जागरूक महिलाएं इस बात का विरोध करती हैं पर अपने सीमित ग्रुप में. इसे विस्तार देने की जरूरत है और पुरुषों में इस तरह की मानसिकता समाप्त हो जाएगी.
जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

आर. अनुराधा said...

अरे नहीं, यहां सशक्तीकरण का कोई मामला नहीं है। महिलाओं के लिए रिजर्व सीट पर पुरुष नहीं आ सकते। पर राज तो उन्हें ही करना है, सो डमी सरपंच, पार्षद आदि वे ही पत्नियां होती हैं, जिनके पति उनके नाम से राज-काज चलाते हैं।सिंपल!!

Ashok Pandey said...

बिहार में स्‍थानीय पंचायत निकायों में महिलाओं को पचास फीसदी आरक्षण दिया गया है, लेकिन कई जगहों पर देखने में आता है कि उनके पति ही सरकारी बैठकों में भी भाग लेते हैं। हैरत यह देखकर होती है, केन्‍द्र और प्रांत की प्रशासनिक सेवाओं से चुनकर आए अफसर भी इस पर ऐतराज नहीं करते।.. और तो और लोकल मीडिया भी प्रतिनिधिपतियों के बयान को ही महिला प्रतिनिधि का अधिकृत बयान मानती है।

राजेश उत्‍साही said...

और ये भी धर्मपत्‍नी हैं।

रचना said...

ha haa

good to see you back

and the board is carrying the message of social security

he hee

Asha Joglekar said...

ये पितृसत्ताक पध्दती की जडें कितनी गहरी हैं हमारे मानसिकता में ।

mukti said...

औरतों के लिए आरक्षण कर दिया गया, पर समाज की मानसिकता तो वही है. लेकिन औरतों को इसी में राह बनानी होती है और कहीं-कहीं वो बना भी लेती हैं.

शोभना चौरे said...

हम सब परिवार की कठपुतलियां है हमारी डोर डोर मुखिया के हाथ में है |
कृपया इससे सम्बन्धित यह पोस्ट पढ़े |
http://shobhanaonline.blogspot.com/2010_06_01_archive.html

रेखा श्रीवास्तव said...

ये जानना क्यों जरूरी है ये भी तो जान लीजिये क्योंकि यहाँ की सीट महिला आरक्षित होगी और फिर उस पर काबिज कौन होगा किसी रसूख वाले की पत्नी ही न , भले भी वे सिर्फ सदन में या पंचायत में शपथ ही लेने भर जाए बाकी तो काम सभालने के लिए हैं न जिनकी वह पत्नी हैं. इस लिए जानना जरूरी है .

SM said...

excellent pic
this shows who is the ruler

Vivek Jain said...

really nice! Ha ha Ha
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

Unknown said...

sach likhna itnje vivaad ko kyu aakarshit kartaa hai. us mahila kee growth utnee hee hui ki use jila parishad hote hue bhee pati ke sandarbh se hee jana jata hai. kathputli banna jab usne sweekar kiya to kathputli ko kathputli hee kahaa jana chahiye na.

Dinesh pareek said...

वहा वहा क्या कहे आपके हर शब्द के बारे में जितनी आपकी तारीफ की जाये उतनी कम होगी
आप मेरे ब्लॉग पे पधारे इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद अपने अपना कीमती वक़्त मेरे लिए निकला इस के लिए आपको बहुत बहुत धन्वाद देना चाहुगा में आपको
बस शिकायत है तो १ की आप अभी तक मेरे ब्लॉग में सम्लित नहीं हुए और नहीं आपका मुझे सहयोग प्राप्त हुआ है जिसका मैं हक दर था
अब मैं आशा करता हु की आगे मुझे आप शिकायत का मोका नहीं देगे
आपका मित्र दिनेश पारीक

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...