Sunday, August 7, 2011

पिता का अंतिम संस्कार किया एक बेटी ने


इस लिंक को जरूर देखिये और साथ में देखिये पुत्रियों का जागरूक होना. उत्तर प्रदेश के जनपद जालौन में उरई में पुत्रियों ने अपने पिता का अंतिम संस्कार किया.


प्रदेश के अति बौद्धिक लोगों की दृष्टि में पिछड़े बुन्देलखण्ड के पिछड़े उरई में इस तरह की ये शायद चौथी घटना है जो पिछले एक साल के दौरान सामने आई है.

इन लड़कियों के और इनसे पहले की लड़कियों के द्वारा उठाये गए इस तरह के कदम से कथित महिला सशक्तिकरण वालों को और अभी-अभी बेशर्मी मोर्चा खोलने वालियों को कुछ सीखने को मिलेगा. देखा जाए तो इस तरह की घटनाओं को ही जागरूकता कहते हैं, महिला सशक्तिकरण कहते हैं.

http://epaper.amarujala.com/svww_zoomart.php?Artname=20110806a_002155003&ileft=459&itop=589&zoomRatio=183&AN=20110806a_002155003

(विशेष==इस लिंक के क्लिक करने पर यदि लिख कर आये कि This Operation is not Allowed तो आप उसे OK कर दें. आवश्यक सामग्री दिखने लगेगी)

लिंक एवं चित्र अमर उजाला से साभार ली गई है

6 comments:

रश्मि प्रभा... said...

yah hona hi chahiye ...

SAJAN.AAWARA said...

Bete or betiyon ko brabri ka hak milna hi chahiye......
Jai hind jai bharat

Asha Joglekar said...

मै तो ऐसे सोच को आधुनिक मानती हूँ । छोटे लिबास को आधुनिक मानने वाली तथा कथित आधुनिक महिलाओं की सोच को नही ।

आर. अनुराधा said...
This comment has been removed by the author.
आर. अनुराधा said...
This comment has been removed by the author.
anshumala said...

महिलाओ को अब सामाजिक और धार्मिक बन्धनों को खुद ही तोड़ना होगा ये शुरुआत है आगे अभी बहुत जाना है |
दूसरी बात भारत में हुए बेसर्मी मोर्चे को बस कम कपड़ो को पहनने की आजादी से जोड़ कर मत देखीये ये इसलिए हुआ था की महिलाओ को ही हर बात के लिए दोष मत दीजिये यहाँ तक की बलात्कार के लिए आप महिलाओ को ही दोषी करार दे रहे है इस तरह कह कर आप बलात्कारियो को और बढाया दे रहे है | ये मोर्चा महिलाओ के खिलाफ हो रहे अत्याचारों के खिलाफ था यहाँ सभी को हर तरह के कपडे पहन कर आने की छुट थी साड़ी और सलवार सूट भी | ये दुनिया की दूसरी जगहों पर हुए मार्च से अलग था ये साल्ट वाक् नहीं था |

अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री को सिर्फ बाहर ही नहीं अपने भीतर भी लड़ना पड़ता है- अनुप्रिया के रेखांकन

स्त्री-विमर्श के तमाम सवालों को समेटने की कोशिश में लगे अनुप्रिया के रेखांकन इन दिनों सबसे विशिष्ट हैं। अपने कहन और असर में वे कई तरह से ...